होलिका दहन 2024 तिथि समय और महत्व

होलिका दहन 2024 तिथि समय और महत्व
  • 01 Feb 2024
  • Comments (0)

 

होलिका दहन 2024: बुराई पर अच्छाई की विजय का जश्न, तिथि, समय और महत्व

रंगों के त्योहार होली से पहले आता है होलिका दहन, जिसका भारत में बड़े हर्षोल्लास से स्वागत किया जाता है। यह दिन बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है, जहां हम अतीत के दुखों को जलाकर नए उत्साह के साथ भविष्य का स्वागत करते हैं। तो आइए साल 2024 में होलिका दहन की तिथि, समय और इसके महत्व को जानें।

 

होलिका दहन 2024 तिथि और समय:

हिंदू कैलेंडर के अनुसार, होलिका दहन हर साल फाल्गुन मास की पूर्णिमा तिथि पर होता है। वर्ष 2024 में यह दिन रविवार, 24 मार्च को पड़ रहा है। होलिका दहन का शुभ मुहूर्त रात 11:13 बजे से 12:27 बजे तक है। हालांकि, कई लोग सूर्यास्त के बाद किसी भी समय होलिका जलाते हैं।

 

होलिका दहन का प्राचीन इतिहास

होलिका दहन के इतिहास को सदियों पीछे, पौराणिक कथाओं में खोजा जा सकता है। हिरण्यकश्यप, एक असुर राजा, जो खुद को अमर समझता था, ने अपने पुत्र, प्रह्लाद को भगवान विष्णु की पूजा करने से रोकने की कोशिश की। प्रह्लाद अपने विश्वास के प्रति अडिग रहे, जिससे क्रोधित होकर हिरण्यकश्यप ने उसे जलती हुई होलिका की गोद में बैठने का आदेश दिया। हालांकि, भगवान विष्णु ने नरसिंह अवतार लिया और होलिका को ही जला दिया, प्रह्लाद को बचा लिया। इस तरह, होलिका दहन बुराई पर अच्छाई की विजय का उत्सव बन गया।

 

विभिन्न क्षेत्रों में होलिका दहन की विविध प्रथाएं

होलिका दहन मनाने के तरीके भारत के विभिन्न क्षेत्रों में भिन्न-भिन्न होते हैं। पहाड़ी क्षेत्रों में, होलिका के ऊपर देवदार की लकड़ियों का ढेर लगाया जाता है, जबकि दक्षिण भारत में, गोबर के उपलों का उपयोग किया जाता है। कुछ समुदायों में, लोग होलिका में नारियल और गुलाल चढ़ाते हैं, जबकि अन्य लोग परंपरागत गीत गाते और ढोल बजाते हैं।

 

होलिका दहन के पीछे छिपा गहरा अर्थ

होलिका दहन सिर्फ एक उत्सव ही नहीं, बल्कि एक गहरा अर्थ भी समेटे हुए है। यह बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है, साथ ही नकारात्मक ऊर्जा को जलाकर सकारात्मक ऊर्जा का स्वागत करता है। यह पर्व हमें जीवन में आने वाली चुनौतियों का सामना करने और नकारात्मकता को दूर करने का संदेश देता है।

 

होलिका दहन का महत्व:

होलिका दहन के साथ जुड़ी कई प्रचलित कहानियां हैं, जिनमें से सबसे लोकप्रिय है प्रह्लाद और उसके पिता हिरण्यकश्यप की कहानी। हिरण्यकश्यप को वरदान प्राप्त था कि न तो अग्नि न ही जल न ही कोई हथियार उसे मार सकता है। उसने अपने दंभ में यह घोषणा कर दी कि वह स्वयं भगवान है। लेकिन उसका पुत्र प्रह्लाद एक विष्णु भक्त था, जो हिरण्यकश्यप की बात नहीं मानता था। अहंकारी राजा क्रोधित हो उठा और उसने अपनी बहन होलिका के साथ मिलकर प्रह्लाद को अग्नि में जलाने का निर्णय लिया। होलिका को वरदान था कि आग उसे जला नहीं सकती।लेकिन अंत में विष्णु की कृपा से प्रह्लाद बच गया और होलिका ही आग में जलकर भस्म हो गई। यह घटना हमें सिखाती है कि बुराई कितनी भी प्रबल क्यों न हो, अंत में अच्छाई की ही जीत होती है।

 

होलिका दहन

 

होलिका दहन सिर्फ पौराणिक कथा का उत्सव नहीं है, बल्कि यह हमें कई महत्वपूर्ण संदेश देता है:

 

  • नकारात्मकता का त्याग: होलिका का दहन नकारात्मक विचारों, क्रोध, ईर्ष्या और अहंकार को त्यागने का प्रतीक है।

 

  • आशा और नए उत्साह का संचार: आग की लपटें अतीत के बोझ को जलाकर भविष्य के लिए आशा और नए उत्साह का संचार करती हैं।

 

  • सामुदायिक सद्भावना: होलिका दहन समाज के सभी वर्गों के लोगों को एक साथ लाता है, जहां जाति, धर्म या सामाजिक स्थिति का कोई भेद नहीं होता।

 

यहां पढ़ें: होलिका दहन अंग्रेजी में

 

होलिका दहन की परंपराएं:

होलिका दहन से पहले लोग लकड़ियों और उपलों का एक बड़ा ढेर तैयार करते हैं। शाम के समय, पूजा-अर्चना के बाद होलिका को जलाया जाता है। लोग गुड़, गेहूं, नारियल आदि अर्पित करते हैं। इसके बाद लोग होलिका की परिक्रमा करते हैं और फिर आग बुझने के बाद राख को अपने माथे पर लगाते हैं।

 

होलिका दहन के बाद अगले दिन रंगों की होली खेली जाती है। यह दिन खुशियों, हंसी-मजाक और एक-दूसरे पर रंग डालने का होता है। यह पर्व हमें यह संदेश देता है कि हमें अतीत के रंज छोड़कर वर्तमान का आनंद लेना चाहिए और सभी के साथ प्रेम और सद्भावना का व्यवहार करना चाहिए।

 

होलिका दहन से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

 

1. क्या होलिका दहन की राख घर पर ला सकते हैं?

कुछ क्षेत्रों में परंपरा के अनुसार होलिका की राख का इस्तेमाल आयुर्वेदिक उपचारों में किया जाता है। हालांकि, कई समुदायों में इसे अशुभ मानते हैं। सबसे सुरक्षित तरीका यही है कि आप स्थानीय परंपरा का पालन करें। यदि आप राख घर लाना चाहते हैं, तो उसे किसी पवित्र स्थान पर रखें और कुछ दिनों बाद नदी में विसर्जित कर दें।

 

2. होलिका जलाने का सही तरीका क्या है?

होलिका जलाने का कोई एक सही तरीका नहीं है, लेकिन आग जलाते समय सावधानी जरूरी है। सूखे पत्तों, लकड़ियों और अन्य ज्वलनशील पदार्थों का इस्तेमाल करें। पेट्रोल या अन्य तेजी से जलने वाले पदार्थों का इस्तेमाल न करें। बच्चों को सुरक्षित दूरी पर रखें और आग बुझाने के लिए पानी या रेत का इंतजाम रखें।

 

3. क्या होली पर शराब पीना चाहिए?

होली एक धार्मिक और सांस्कृतिक त्योहार है। शराब पीना इस पवित्रता को बिगाड़ सकता है। इसके अलावा, शराब पीने से हादसों का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए, किसी भी दुर्घटना से बचने के लिए होली पर शराब पीने से बचना ही बेहतर है।

 

4. क्या होली के रंग त्वचा के लिए हानिकारक हैं?

कुछ प्रकार के रासायनिक रंग त्वचा के लिए हानिकारक हो सकते हैं। ऐसे रंगों का इस्तेमाल न करें जो खुजली या जलन पैदा करते हैं। हर्बल रंगों का इस्तेमाल करना सबसे अच्छा विकल्प है।

 

इस तरह के और भी दिलचस्प विषय के लिए यहां क्लिक करें - Instagram
 

Author :

Comments

Related Blogs

मेष और मेष राशि के बीच समानताएं
  • 13 Nov 2023
मेष और मेष राशि के बीच समानताएं

"मेष राशि के दो व्यक्तियों के बीच समानताएं है जो ए...

Read More
मेष और मिथुन राशि के बीच समानताएं
  • 13 Nov 2023
मेष और मिथुन राशि के बीच समानताएं

"मेष और मिथुन राशि के बीच समानता" विषय पर यह ब्लॉग...

Read More
मेष और कर्क राशि के बीच समानताएं
  • 15 Nov 2023
मेष और कर्क राशि के बीच समानताएं

मेष और कर्क राशि के बीच समानताएं और विभिन्नता का ख...

Read More

Copyright © 2023 Astroera. All Rights Reserved. | Web Design Company: Vega Moon Technologies